Friday, 27 April 2012

                              मां का आंचल

छोटी थी 
रोती थी 
बिसुरती थी
मां के आंचल 
आंसू पोंछते
डरती-भयभीत होती 
मां के आंचल में छुप जाती 
मां के आंचल ने सबकी नजरों से बचाया
शादी हुई 
बच्‍चे हुए
 मां के आंचल से 
बेशुमार 
आशीर्वाद के फूल झड़े 
मेरी झोली में 
अब दूर है
 मां का आंचल 
बहुत दूर 
आसमान में फैला है 
मां का इंद्रधनुषी आंचल

                                  - सविता सिंह